My Favourite Shayari – प्रेरणादायक शायरी

और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा
– फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

वो अफ़्साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन
उसे इक ख़ूब-सूरत मोड़ दे कर छोड़ना अच्छा
– साहिर लुधियानवी

जहाँ रहेगा वहीं रौशनी लुटाएगा
किसी चराग़ का अपना मकाँ नहीं होता
वसीम बरेलवी

हम को मिटा सके ये ज़माने में दम नहीं
हम से ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम नहीं
जिगर मुरादाबादी

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे
जब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिंदा न हों
बशीर बद्र

कश्तियाँ सब की किनारे पे पहुँच जाती हैं
नाख़ुदा जिन का नहीं उन का ख़ुदा होता है
अमीर मीनाई

उठो ये मंज़र-ए-शब-ताब देखने के लिए
कि नींद शर्त नहीं ख़्वाब देखने के लिए
इरफ़ान सिद्दीक़ी

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा
राहत इंदौरी

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो
निदा फ़ाज़ली

तिरे माथे पे ये आँचल बहुत ही ख़ूब है लेकिन
तू इस आँचल से इक परचम बना लेती तो अच्छा था
असरार-उल-हक़ मजाज़

हयात ले के चलो काएनात ले के चलो
चलो तो सारे ज़माने को साथ ले के चलो
मख़दूम मुहिउद्दीन

घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाए
निदा फ़ाज़ली

रास्ता सोचते रहने से किधर बनता है
सर में सौदा हो तो दीवार में दर बनता है
जलील ’आली’

चला जाता हूँ हँसता खेलता मौज-ए-हवादिस से
अगर आसानियाँ हों ज़िंदगी दुश्वार हो जाए
असग़र गोंडवी

कोशिश भी कर उमीद भी रख रास्ता भी चुन
फिर इस के ब’अद थोड़ा मुक़द्दर तलाश कर
निदा फ़ाज़ली

प्यासो रहो न दश्त में बारिश के मुंतज़िर
मारो ज़मीं पे पाँव कि पानी निकल पड़े
इक़बाल साजिद

एक हो जाएँ तो बन सकते हैं ख़ुर्शीद-ए-मुबीं
वर्ना इन बिखरे हुए तारों से क्या काम बने
अबुल मुजाहिद ज़ाहिद

तीर खाने की हवस है तो जिगर पैदा कर
सरफ़रोशी की तमन्ना है तो सर पैदा कर
अमीर मीनाई

हार हो जाती है जब मान लिया जाता है
जीत तब होती है जब ठान लिया जाता है
शकील आज़मी

देख ज़िंदाँ से परे रंग-ए-चमन जोश-ए-बहार
रक़्स करना है तो फिर पाँव की ज़ंजीर न देख
मजरूह सुल्तानपुरी

सूरज हूँ ज़िंदगी की रमक़ छोड़ जाऊँगा
मैं डूब भी गया तो शफ़क़ छोड़ जाऊँगा
इक़बाल साजिद

भँवर से लड़ो तुंद लहरों से उलझो
कहाँ तक चलोगे किनारे किनारे
रज़ा हमदानी

रात को जीत तो पाता नहीं लेकिन ये चराग़
कम से कम रात का नुक़सान बहुत करता है
इरफ़ान सिद्दीक़ी

इत्तिफ़ाक़ अपनी जगह ख़ुश-क़िस्मती अपनी जगह
ख़ुद बनाता है जहाँ में आदमी अपनी जगह
अनवर शऊर

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे
रोना ख़ुद अपने हाल पे ये ज़ार ज़ार क्या
अज़ीज़ लखनवी

इधर फ़लक को है ज़िद बिजलियाँ गिराने की
उधर हमें भी है धुन आशियाँ बनाने की
अज्ञात

‘शुऊर’ सिर्फ़ इरादे से कुछ नहीं होता
अमल है शर्त इरादे सभी के होते हैं
अनवर शऊर

मत बैठ आशियाँ में परों को समेट कर
कर हौसला कुशादा फ़ज़ा में उड़ान का
महफूजुर्रहमान आदिल

जादा जादा छोड़ जाओ अपनी यादों के नुक़ूश
आने वाले कारवाँ के रहनुमा बन कर चलो
अज्ञात

हयात ले के चलो काएनात ले के चलो
चलो तो सारे ज़माने को साथ ले के चलो
मख़दूम मुहिउद्दीन

अपने मन में डूब कर पा जा सुराग़-ए-ज़ि़ंदगी
तू अगर मेरा नहीं बनता न बन अपना तो बन
अल्लामा इक़बाल

भँवर से लड़ो तुंद लहरों से उलझो
कहाँ तक चलोगे किनारे किनारे
रज़ा हमदानी

महफ़ूज़ रहे तेरी आन सदा,
चाहे जान मेरी ये रहे ना रहे
ऐ मेरी ज़मीं, महबूब मेरी
मेरी नस-नस में तेरा इश्क़ बहे

पानी के बुलबुलों का सफ़र जानते हुए
तोहफ़े में दिल न देना था हम ने मगर दिया।

मोम के लोग कड़ी धूप में आ बैठे हैं
आओ अब उन के पिघलने का तमाशा देखें
~ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र

ग़र फिरदौस बर रू-ए ज़मीं अस्त
हमीं अस्तो हमीं अस्तो हमीं अस्त
~अमीर खुसरो

If there is a paradise on earth
It is this, it is this, it is this

अपनी छवि बनाई के जो मैं पी के पास गई,
जब छवि देखी पीहू की तो अपनी भूल गई..!!

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर,
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ….

इक मुलाक़ात हुई वो भी बिछड़ने के लिए
कैमरा टूट गया एक ही तस्वीर के बाद

वो ख़ुद से तो न उट्ठेंगे उन्हें तुम ही उठा देना
घटाई है जिन्हों ने इतनी क़ीमत अपने सिक्के की
~कैफ़ी आज़मी

वो जिस की ठोकर में हो सँभलने का दर्स शामिल
तुम ऐसे पत्थर को रास्ते से हटा न देना
~क़तील शिफ़ाई

शामिल थे ज़िंदगी मे कूछ सस्ते लोग,
बस सबक़ थोड़ा मेहगा देकर चले गए।।

इस उड़ान पर अब शर्मिंदा, में भी हूँ और तू भी है
आसमान से गिरा परिंदा, में भी हूँ और तू भी है

बस यही दो मसले,जिंदगी भर ना हल हुए..
ना नींद पूरी हुई ना ख्वाब मुकम्मल हुए

जला वो शमा कि आँधी जिसे बुझा न सके
वो नक़्श बन कि ज़माना जिसे मिटा न सके
~शफ़ीक़ जौनपुरी

कुछ लिख के सो, कुछ पढ़ के सो, तू जिस जगह जागा सवेरे, उस जगह से कुछ बढ़ के सो। ~
भवानीप्रसाद मिश्र

फ़िक़्र की धूप में

क्यूँ तुझको लग रहा है कि तुझसे ज़ुदा हूँ मैं
मुझमें तू ख़ुद को देख तेरा आईना हूँ मैं

ऐ दिल सभी ने तोड़ दिया है यक़ीन तेरा
दुनिया की बात क्या करूँ ख़ुद से ख़फ़ा हूँ मैं

बस तेरा आसरा है मुझे ऐ मेरे ख़ुदा
सजदे में तेरे हर घड़ी महवे-दुआ हूँ मैं

अल्लाह रे ज़माना-ए-हाज़िर का क्या करें
हर शख़्स कह रहा है यहाँ पर ख़ुदा हूँ मैं

तेरे बग़ैर मैं तो अधूरी थी शायरी
पहचान हुई ख़ुद से ये जाना सिया हूँ मैं

सिया सचदेव

INTRADAY INDICATORS -BASICS OF TRADING

If you’re looking for the best indicator for intraday trading, we might have the answers. Intraday trading indicators are tools that traders use along with trading strategies to make the most out of their trade. Every trader uses a different indicator while there are also traders who use none. It all depends on how successful they are when using indicators for trading.

As a common practice, many traders check the indicators before starting the trading day. So, what exactly can these trading indicators help you identify?

  1. The most accurate intraday trading indicators will be able to help you identify the direction of the trend to determine the movement
  2. You can also identify whether there is a lack of momentum or too much of it in the investment market
  3. Trading indicators can tell you your profit potential due to the volatility
  4. They also help you determine the popularity through volume measurements

With these critical pieces of information received from the trading indicators, traders can effectively assess the market conditions and make informed decisions to earn higher profits.

So, which are the most accurate intraday trading indicators?

  1. Moving Averages:This is one of the most common and widely used indicators. It tells traders about daily moving averages (DMA). The moving average is a line on the stock chart a trader refers to, that connects the average closing rates of the shares over a specific period. The longer the time, the more reliable is the information on the moving average. Using this indicator can help traders to identify the underlying movement of the price, as in share market, prices don’t move in just one direction. Share market, and therefore, the stock prices are extremely volatile. The moving average indicator smoothens out this volatility and enables the trader to get a clear understanding of the underlying trend with regards to the price movement.
  2. Bollinger Bands:This is another useful trading indicator. Experts say that this intraday trading indicator is a little more advanced than the moving average. This Bollinger Band refers to three lines on the stock chart —the moving average, an upper limit and a lower one. All these lines represent the deviation happening in the price of the stock, whether it is increasing or decreasing from its average price. This Intraday trading indicator allows traders to have a better understanding of the stock’s trading range.
  3. Momentum Oscillators:In the share market, one constant is the up and down movement of the stock prices. Often, the prices rise and fall so quickly that sometimes traders miss out on these changes. That’s where the Momentum Oscillator is beneficial. It helps traders determine whether the price of the stocks is going to move further up or down the price range
  4. Relative Strength Index (RSI):This is one of the most useful indicators that allows traders to compare the share price’s gains and losses. Once this information has been derived, it is formulated in an index form. The index helps traders narrow down the RSI score ranging between 0 and 100. When the price of the stock rises, the index increases and vice versa. When the RSI increases or decreases to a specified limit, it is an indicator to the trader that he must modify his trading strategy to make the most of the changing market trends.

If you’re an expert investor or have just started in the world of share markets, using Intraday trading indicators can help you avert risk, understand what’s driving the market and make bets that will be to your advantage. At Angel Broking, we offer detailed charts and reports containing these indicators. Visit our website to know more about these indicators and get started with your trading journey!

फर्स्ट पार्टी और थर्ड पार्टी इंश्योरेंस में क्या होता है? क्या आप जानते हैं !

आप टू-व्हीलर चलाएं या फोर-व्हीलर गाड़ी के कागज़ पूरे होने चाहिए। जिसमें आपको वाहन का इंश्योरेंस हर साल करवाना पड़ता है। केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री ने नियमों में बदलाव किए हैं जिसके बाद सड़क पर अब बिना इंश्योरेंस के गाड़ी चलाना आपको महंगा पड़ सकता है। लेकिन इंश्योरेंस पॉलिसी भी अलग-अलग होती हैं। अक्सर हम फर्स्ट पार्टी और थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के बारे में सुनते हैं। हालांकि इन पॉलिसीज़ के फायदे और नुकसान के बारे में अधिकतर लोग नहीं जानते हैं। अगर आप भी जानना चाहते हैं कि फर्स्ट पार्टी और थर्ड पार्टी इंश्योरेंस में क्या फर्क होता है तो हम आपको इस लेख के जरिेए समझाने की कोशिश करते हैं।

क्या होता है थर्ड पार्टी इंश्योरेंस:

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस वह होता है, जिसमें आपके द्वारा हुई किसी दुर्घटना का क्लेम आपको नहीं मिलता बल्कि सामने वाले को मिलता है। मान लीजिए आपकी बाइक या कार किसी दूसरी बाइक या कार से टकराती है, तो दुर्घटना में हुए नुकसान की भरपाई आपकी इंश्योरेंस कंपनी सामने वाले को देती हैं। थर्ड पार्टी इंश्योरेंस में यदि आपकी बाइक या कार चोरी भी हो जाए तो उसका क्लेम आपको नहीं मिलता है। क्योंकि चोरी इसमें कवर नहीं होती है और थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के तहत सिर्फ सामने वाली पार्टी को लाभ मिलता है जो आपके वाहन से दुर्घटना ग्रस्त हुआ है। मान के चलिए यह इंश्योरेंस गाड़ी के पेपर्स पूरे रखने की प्रक्रिया के तहत करवाया जा सकता है।

फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस: 

फर्स्ट पार्टी इंश्योरेंस जीरो डेप्थ के साथ करवाया जा सकता है। जिसमें सारी चीज़ें कवर होती हैं। जैसे आपकी गाड़ी की टूट-फूट आपकी शारीरिक क्षति, सामने वाले जिससे आपकी गाड़ी टकराई है उसकी गाड़ी की टूट-फूट से लेकर उसकी इंजरी तक सारी चीज़ें इस इंश्योरेंस पॉलिसी में आपको कंपनी की तरफ से मिलती हैं। यहां तक कि इस इंश्योरेंस के तहत गाड़ी चोरी हो जाने पर या बुरी तरह डैमेज हो जाने पर भी आपको कंपनी से क्लेम मिल जाता है। जीरो डेप्थ वाले इंश्योरेंस में आप साल में दो बार क्लेम ले सकते हैं। बता दें कि नए नियमों के मुताबिक बिना इंश्योरेंस के गाड़ी चलाने पर 2 हजार रुपये का जुर्माना या 3 महीने की जेल या दोनों साथ-साथ हो सकते हैं।

#SaturdayVibes – Break The Chain

If you do what you’ve always done, You’ll get what you have always gotten

SO,

Break The Chain and Rise…

I look forward to continue serving your General Insurance needs

#StayInsured #ThinkAhead #Muzaffarpur #Motihari #Sitamarhi #Siwan #Chapra #Gopalganj #Bettiah #Madhubani #Darbhanga #Raxaul #Quote #Life #InspiringShashi #iShashi #SaturdayMorning

Tuesday Motivation – Stay Humble

Good Morning 🙏

उन्हें ठहरे समुंदर ने डुबोया
जिन्हें तूफ़ाँ का अंदाज़ा बहुत था
~मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

#StayInsured #ThinkAhead #Muzaffarpur #Motihari #Sitamarhi #Siwan #Chapra #Gopalganj #Bettiah #Madhubani #Darbhanga #Raxaul #Quote #Life #InspiringShashi #iShashi

We look forward to continue serving your General Insurance needs

Happy 2021 – इस साल आप ‘इक्कीस’ रहो

चलो ऐसा फिर कुछ यत्न करो,
इस साल आप ‘इक्कीस’ रहो

ना द्वेष रखो ना मनभेद करो,
निज लक्ष्य निरन्तर भेद करो

निज गौरव का उत्थान रहे
हम आपके हैं यह ध्यान रहे

कुछ आप कहो, कुछ मेरी सुनो,
इतना बस अधिकार बनाए रखो।

किराना दुकान मालिकों के लिए बीमा कवर – जो हर दिन जोखिम झेल रहे हैं

किराना दुकान मालिक जो रोजाना जोखिम झेल रहे हैं उनके लिए जरूरी बीमा कवर की जरूरत है अब ये आप पर है कैसे किस हद तक किन किन तक पहुंच पाते है

किराना स्टोर के मालिक कस्टमर्स की कई जरूरतों को पूरा करते रहे, वे अक्सर किसी भी अप्रत्याशित आपात स्थिति से खुद को बचाना भूल गए. चलिए कुछ बिन्दुओं पर एक नजर डालिए कि यह छोटे व्यवसायों के मालिक किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना से खुद को और अपने व्यवसायों को कैसे सुरक्षित रख सकते हैं.

आज के समय मे हेल्थ इंश्योरेंस कवर सबसे जरूरी है

किराने का सामान स्टॉक करने, वितरकों के साथ बैठकें करने और कारोबार के लिए पैसों की व्यवस्था करने, किराने की दुकान के मालिकों जैसे छोटे व्यवसाय के मालिकों के व्यस्त कार्यक्रम के बीच, शायद ही कभी अपने और अपने परिवार के स्वास्थ्य की रक्षा करने पर ध्यान देते हैं. किसी भी प्रकार की आपातकालीन चिकित्सा उनके कारोबार के लिए बाधक बन सकती है.
जो पैसा उन्होंने अपने कारोबार विस्तार के लिए बचा रखा है उसे उन्हें हैल्थ केयर ख़र्चे में व्यय करना पड़ जाता है.
हेल्थ बीमा कवर व्यापारी की वित्तीय एवं शारीरिक स्वास्थ्य दोनो को रक्षा प्रदान करता है. एक उचित इंश्योरेंस प्लान अस्पताल में भर्ती खचरें की पूरी श्रृंखला से कवरेज प्रदान करेगा. इसके अलावा वे श्रेष्ठतम चिकित्सा प्राप्त कर सकेंगे, यह एक प्रकार से उन्हे भविष्य के खचरें जैसे ओपीडी और डे-केयर ट्रीटमेंट सुविधाएं भी प्रदान करता है.

किराना दुकान मालिकों के लिए बीमा कवर – जो हर दिन जोखिम झेल रहे हैं – शशि कुमार आँसू

Insurance #Health_Insurance #insuranceagent #insuranceexpert #needbasedInsurance #ishashi #InspiringShashi #muzaffarpur #Darbhanga #motihari #bettiah #Sitamarhi #madhubani #TIRHUT

How Is Your Car Insurance Premium Calculated?

Well it’s about time that changed, don’t you think? Read on to know the components of your car insurance premium, so you can save more, and get smarter along the way!

There are a lot of things in the fine print of our insurance policies- the Terms and Conditions, the Exclusions, the Special Cases… but premium is always told to us up front. More often than not, however, we tend to hear just a number, never really understanding how that number was arrived at, or what the process of calculation truly entailed.

The premium of car insurance depends on the following factors:

3 Aspects of Car Insurance Premium

Your car insurance premium is the sum of the following 3 covers:

In India, it is mandatory to have a TPL cover if you own a car.

Third Party Liability (TPL) covers any damage to a person or property by your insured vehicle that results in financial loss or loss of life to the said person.

But TPL does not cover expenses borne by you for any repairs, so it’s always prudent to opt for a policy that covers losses caused by damage to your own vehicle as well.

The TPL premium depends on the car capacity and is issued by the Insurance Regulatory Authority of India (IRDAI).

The OD cover is optional but highly beneficial. It reimburses your expenditure in case your car is damaged due to any natural events such as earthquakes, fires, storms, etc. or due to an accident. The deal is – higher the Insurance Declared Value or IDV, higher the premium and vice versa. Thus, as your car grows older, the IDV decreases.

The premium for OD cover is calculated as a percentage of IDV as decided by the Indian Motor Tariff.

IDV = Showroom price of your car + cost of accessories (if any) – depreciation value as per (IRDAI)

Thus, formula to calculate OD premium amount is:

Own Damage premium = IDV X [Premium Rate (decided by insurer)] + [Add-Ons (eg. bonus coverage)] – [Discount & benefits (no claim bonus, theft discount, etc.)]

This component of your car insurance premium goes beyond your car, and safeguards you, not only against accidents, but mishaps leading to a disability. This is a vital part of being comprehensively protected, because the chances of disability are higher than almost any other outcome. In 2014, nearly 3 lakh people were killed in road accidents. But 5 lakh were either seriously injured or permanently disabled. You can also increase the sum insured to include unnamed passengers in the policy.

The premium for this cover goes higher as your sum insured increases.

And finally, you have riders. These riders, or car insurance add-ons, provide various kinds of protection and services to you at a nominal cost. For example, Engine Secure protects against damage caused by waterlogging, Road Side Assistance will send help if your car breaks down in the middle of the road, NCB Protection lets you make two claims without losing out on your No Claim Bonus, and more. Each rider helps to make your car insurance policy more robust to ensure you are protected in all situations.

KYA PAA LI TUNE AAZADI (POEM) BY SHASHI KUMAR AANSOO

क्या पा ली तेरी तूने आज़ादी!
क्या छिन के ली तूने आज़ादी?

तय तो करो कैसी हो आज़ादी!
किस बात की चाहिए आज़ादी?

क्या ख़ुद की बंदगी से आज़ादी !
या मन की गंदगी से आज़ादी !!

क्या बेसुमार नफरतों से आज़ादी !
या दकियानूसी सोचों से आजादी!!

क्या तेरी झूठे वादों से आज़ादी !
या तेरी टुच्ची इरादों से आज़ादी !!

क्या तेरी कर्तव्यहीनता से आज़ादी !
या तेरी बेसुमार कृतघ्नता से आज़ादी !!

क्या तेरी अनुशासनहीनता से आज़ादी!
या तेरी कोरी कपट बहानो से आज़ादी!!

क्या राह मे बिछी बाधाओं से आज़ादी !
या मेहनतकश आशाओं से आज़ादी !!

क्या पतंग का अपने डोर से आज़ादी!
या उसके बाधाओं के छोर से आजादी!!

कहते हो छिन के लेंगे मेरी आज़ादी?
कहो क्या पा ली ये सब से आज़ादी!!

लेखक – शशि कुमार आँसू @shashiaansoo

घर की याद – भवानी प्रसाद मिश्र

आज पानी गिर रहा है,
बहुत पानी गिर रहा है,
रात-भर गिरता रहा है,
प्राण मन घिरता रहा है,

अब सवेरा हो गया है,
कब सवेरा हो गया है,
ठीक से मैंने न जाना,
बहुत सोकर सिर्फ़ माना—

क्योंकि बादल की अँधेरी,
है अभी तक भी घनेरी,
अभी तक चुपचाप है सब,
रातवाली छाप है सब,

गिर रहा पानी झरा-झर,
हिल रहे पत्ते हरा-हर,
बह रही है हवा सर-सर,
काँपते हैं प्राण थर-थर,

बहुत पानी गिर रहा है,
घर नज़र में तिर रहा है,
घर कि मुझसे दूर है जो,
घर ख़ुशी का पूर है जो,

घर कि घर में चार भाई,
मायके में बहिन आई,
बहिन आई बाप के घर,
हायर रे परिताप के घर!

आज का दिन दिन नहीं है,
क्योंकि इसका छिन नहीं है,
एक छिन सौ बरस है रे,
हाय कैसा तरस है रे,

घर कि घर में सब जुड़े हैं,
सब कि इतने तब जुड़े हैं,
चार भाई चार बहिनें,
भुजा भाई प्यार बहिनें,

और माँ बिन-पढ़ी मेरी,
दुःख में वह गढ़ी मेरी,
माँ कि जिसकी गोद में सिर,
रख लिया तो दुख नहीं फिर,

माँ कि जिसकी स्नेह-धारा
का यहाँ तक भी पसारा,
उसे लिखना नहीं आता,
जो कि उसका पत्र पाता।

और पानी गिर रहा है,
घर चतुर्दिक् घिर रहा है,
पिताजी भोले बहादुर,
वज्र-भुज नवनीत-सा उर,

पिताजी जिनको बुढ़ापा,
एक क्षण भी नहीं व्यापा,
जो अभी दौड़ जाएँ,
जो अभी भी खिल-खिलाएँ,

मौत के आगे न हिचकें,
शेर के आगे न बिचकें,
बोल में बादल गरजता,
काम में झंझा लरजता,

आज गीता पाठ करके,
दंड दो सौ साठ करके,
ख़ूब मुगदर हिला लेकर,
मूठ उनकी मिला लेकर,

जब कि नीचे आए होंगे
नैन जल से छाए होंगे,
हाय, पानी गिर रहा है,
घर नज़र में तिर रहा है,

चार भाई चार बहिनें,
भुजा भाई प्यार बहिनें,
खेलते या खड़े होंगे,
नज़र उनकी पड़े होंगे।

पिताजी जिनको बुढ़ापा,
एक क्षण भी नहीं व्यापा,
रो पड़े होंगे बराबर,
पाँचवें का नाम लेकर,

पाँचवाँ मैं हूँ अभागा,
जिसे सोने पर सुहागा,
पिताजी कहते रहे हैं,
प्यार में बहते रहे हैं,

आज उनके स्वर्ण बेटे,
लगे होंगे उन्हें हेटे,
क्योंकि मैं उन पर सुहागा
बँधा बैठा हूँ अभागा,

और माँ ने कहा होगा,
दुःख कितना बहा होगा
आँख में किस लिए पानी,
वहाँ अच्छा है भवानी,

वह तुम्हारा मन समझ कर,
और अपनापन समझ कर,
गया है सो ठीक ही है,
यह तुम्हारी लीक ही है,

पाँव जो पीछे हटाता,
कोख को मेरी लजाता,
इस तरह होओ न कच्चे,
रो पड़ेगे और बच्चे,

पिताजी ने कहा होगा,
हाय कितना सहा होगा,
कहाँ, मैं रोता कहाँ हूँ,
धीर मैं खोता, कहाँ हूँ,

गिर रहा है आज पानी,
याद आता है भवानी,
उसे थी बरसात प्यारी,
रात-दिन की झड़ी झारी,

खुले सिर नंगे बदन वह,
घूमता फिरता मगन वह,
बड़े बाड़े में कि जाता,
बीज लौकी का लगाता,

तुझे बतलाता कि बेला
ने फलानी फूल झेला,
तू कि उसके साथ जाती,
आज इससे याद आती,

मैं न रोऊँगा,—कहा होगा,
और फिर पानी बहा होगा,
दृश्य उसके बाद का रे,
पाँचवे की याद का रे,
भाई पागल, बहिन पागल,
और अम्मा ठीक बादल,
और भौजी और सरला,,
सहज पानी, सहज तरला,

शर्म से रो भी न पाएँ,
ख़ूब भीतर छटपटाएँ,
आज ऐसा कुछ हुआ होगा,
आज सबका मन चुआ होगा।

अभी पानी थम गया है,
मन निहायत नम गया है,
एक-से बादल जमे हैं,
गगन-भर फैले रमे हैं,

ढेर है उनका, न फाँकें,
जो कि किरने झुकें-झाँकें,
लग रहे हैं वे मुझे यों,
माँ कि आँगन लीप दे ज्यों,

गगन-आँगन की लुनाई,
दिशा के मन से समाई,
दश-दिशा चुपचार है रे,
स्वस्थ की छाप है रे,

झाड़ आँखें बंद करके,
साँस सुस्थिर मंद करके,
हिले बिन चुपके खड़े हैं,
क्षितिज पर जैसे जड़े हैं,

एक पंछी बोलता है,
घाव उर के खोलता है,
आदमी के उर बिचारे,
किस लिए इतनी तृषा रे,

तू ज़रा-सा दुःख कितना,
सह सकेगा क्या कि इतना,
और इस पर बस नहीं है,
बस बिना कुछ रस नहीं है,

हवा आई उड़ चला तू,
लहर आई मुड़ चला तू,
लगा झटका टूट बैठा,
गिरा नीचे फूट बैठा,

तू कि प्रिय से दूर होकर,
बह चला रे पूर होकर
दुःख भर क्या पास तेरे,
अश्रु सिंचित हास तेरे!

पिताजी का वेश मुझको,
दे रहा है क्लेश मुझको,
देह एक पहाड़ जैसे,
मन कि बड़ का झाड़ जैसे

एक पत्ता टूट जाए,
बस कि धारा फूट जाए,
एक हल्की चोट लग ले,
दूध की नद्दी उमग ले,

एक टहनी कम न होले,
कम कहाँ कि ख़म न होले,
ध्यान कितना फ़िक्र कितनी,
डाल जितनी जड़ें उतनी!
इस तरह का हाल उनका,

इस तरह का ख़याल उनका,
हवा, उनको धीर देना,
यह नहीं जी चीर देना,
हे सजीले हरे सावन,

हे कि मेरे पुण्य पावन,
तुम बरस लो वे न बरसें,
पाँचवें को वे न तरसें,

मैं मज़े में हूँ सही है,
घर नहीं हूँ बस यही है,
किंतु यह बस बड़ा बस है,
इसी बस से सब विरस है,

किंतु उससे यह न कहना,
उन्हें देते धीर रहना,
उन्हें कहना लिख रहा हूँ,
मत करो कुछ शोक कहना,

और कहना मस्त हूँ मैं,
कातने में व्यस्त हूँ मैं,
वज़न सत्तर सेर मेरा,
और भोजन ढेर मेरा,

कूदता हूँ, खेलता हूँ,
दुःख डट कर ठेलता हूँ,
और कहना मस्त हूँ मैं,
यों न कहना अस्त हूँ मैं,

हाय रे, ऐसा न कहना,
है कि जो वैसा न कहना,
कह न देना जागता हूँ,
आदमी से भागता हूँ,

कह न देना मौन हूँ मैं,
ख़ुद न समझूँ कौन हूँ मैं,
देखना कुछ बक न देना,
उन्हें कोई शक न देना,

हे सजीले हरे सावन,
हे कि मेरे पुण्य पावन,
तुम बरस लो वे न बरसें,
पाँचवें को वे न तरसें।

स्रोत:
पुस्तक : मन एक मैली क़मीज़ है (पृष्ठ 25)संपादक : नंदकिशोर आचार्यरचनाकार : भवानी प्रसाद मिश्रप्रकाशन : वाग्देवी प्रकाशनसंस्करण : 1998

ख़ैरात की दुश्मनी – शशि कुमार आँसू

भई दुश्मन बनाने के लिए ज़रूरी नही की हर वक़्त लड़ा जाए,
ये काम आप थोड़े कामयाब होके  ख़ैरात में भी पा सकते हैं।

बदचलन होना लाजमी है – शशि कुमार आँसू

थोड़ा तो बदचलन होना लाजमी है मेरे यार
भस्मासुर बहुत हैं! बिन कहे लाज़ लूट लेते हैं।।

थोड़ा तो बदचलन होना लाजमी है मेरे यार
भस्मासुर बहुत हैं! बिन कहे लाज़ लूट लेते हैं।।
©शशि कुमार आँसू
#SKA


तेरा ख्याल – शशि कुमार आँसू

तेरा जब भी ख्याल आता है…
ख़ुद के नशे में महुए सा टपक जाता हूँ।
अक्खड़ प्रेमी सा चलता हूँ… लड़खड़ाता हूँ।

तेरा जब भी ख्याल आता है…
सुर्ख उढ़हूल सा लहलहा के खिल जाता हूँ।
मोगरे की खुशबू सा फिज़ा मे बिखर जाता हूँ।

तेरा जब भी ख्याल आता है…
सुनसान मेरे बस्ती मे गाता हूँ गुनगुनाता हूँ।
भीगी बारिश मे मोरनी सा चहचहाता हूँ।

तेरा जब भी ख्याल आता है…
खुले आसमान मे सैर पर चला जाता हूँ।
चाँद को देखता हूँ मंद मंद मुस्कुराता हूँ।

तेरा जब भी ख्याल आता है…
तेरी असीम यादों मे गुम हो जाया करता हूँ।
थोड़ा ठहरता हूँ फिर गुमसुम हो जाता हूँ।

तेरा जब भी ख्याल आता है…
मैं बस टूटता हूँ, बिखरता हूँ, छटपटाता हूँ…
तेरी यादों मे मैं तुझे हीं ओढ़ता बिछाता हूँ।

तेरा जब भी ख्याल आता है…
तेरे एहसास से हीं आह्लादित हो जाता हूँ
खुशबू में तेरी डूब प्रेम की पराकाष्ठा मैं पाता हूँ।

लेखक :: शशि कुमार आँसू @shashiaansoo


Share Your Happiness : न जाने कल हो न हो!

Happiness is real when it’s shared with whom we are being cared…

शायद हम अटक कर रह जाते है हरदम दुसरो को गलत सिद्ध करने में समय व्यतित कर देते है और समय कब दगा दे जाता है पता नही चलता!!

चलो सबको माफ करो! खुशी के पल को जी भर के जियो! साथ होने का अहसास का आनंद लो। ख़ुद को टेक्नोलॉजी पर ज्यादा कंज़्यूम मत करो… अड़चनों से थोड़ा आगे बढ़ो!

न जाने कल हो न हो!

Fight In The Arena – Shashi Kumar Aansoo

You Must Not allow people to mistune your emotions & poison the day with their words. Some People find opportunity to dash You Therefore You need to have patience. Bring Stability, permanence (ठहराव) in your Karma. Don’t let impatience mind govern your decisions & actions. Impatience behavior gives nothing except pang of guilt. Keep yourself calm & ambitious enough to fight with all petty things.

When you are #ambitious you automatically busy & when you busy you automatically respectful for other person & profession . Critics are the least ambitious one who avoid failure doing nothing but criticizing others. Here the man only matters who fought in the arena.

Be the man of arena. keep rejuvenating yourself. Learn & Rise

#Respectful #सत्यवचन #ShashiKumarAansoo #BlogPost #Mytruth #monologue #MySpeak # Speaking Shashi #मेरी बात