आँसू और अभिशाप

उसने ये नही किया
इसने वो नही किया
गिला यही रखकर
सारी उम्र बस गिला किया

ये वो कर सकता था…
पर उसने वो नही किया।
पर जिसने भी जो किया,
उसे किसी ने ये नही पूछा
तूने इतना कैसे किया!

यही होना है होता है
दस्तूर है बुजुर्ग कह गए
पर क्या हमने कुछ किया
हाँ शिकवा बहुत किया
ऑंसू न दे किसी को
ख़ुदा से यही दूआ किया।

कोशिश सच मे हज़ार की
न टूटे साथ किसी का
ना रूठे हाथ किसी का
सब सहोदर रहें 
सब अगोदर रहे
नया कल लिख पाए
हर सोच उत्तरोत्तर रहे

फ़क़त मलाल इस बात का है
बस अपने हीं शक करते रहे 
न जाने क्यूं जलते रहे बुझते रहे
हम की तलाश में, मैं-मैं करते रहे
न जाने क्यूं! किसके आड़ में
न सहोदर रहे न अगोदर रहे

हमने तो लानत देखी है
लाज़िम है की हम बोलेंगे
चौदह बरस का बनवास जिया
हर दिन जिसका अरदास किया
सब साख टूटी सब आंगन छोड़ा
वो फिर भी मेरे हो न सके
मैंने तो अपना कर्म  किया
सब को देखा हर धर्म किया
ना मैंने कोई  स्वार्थ रखा
ना मैंने कोई पार्थ रखा

हाँ मैंने सब्र के चाक रखे
जिसपर मेरे कुछ स्वप्न बुने
मैंने भी सफलता पायी है
कितनो वसंत के जाने पर
फ़नकारो के पावँ पखेरे है
तब जाकर ये नेयमत आयी
भूख में कितने दिन बीते
पावँ में कितने छाले आये
न जाने कितने दर भटकें
तब जाकर फ़क़त एक दीद मिली

सब कहते है बस कर्म करो
फल की चिंता से तुम न घुलो
पर ऐसे कैसे हो जाता है
जब बच्चे बड़े हो जाते है
सब जल्दी वह भूल जाते है
हाँ जेनरेशन गैप हो जाता है
पर कर्ता तो कर्ता होता है
वह दुश्मन कब बन जाता है

हमने तो सारे प्रयत्न किये
न जाने किते जतन किये
हम मिल जुल कर सब रह लेंगे
इस बात का भी यत्न किये
पर सारे अनुनय बेकार गए

हमने भी अब यह मान लिया
रेखाओं को सब जान लिया
ये रेखाओ की तो मस्ती है
जो मेरे सिरे नही बस्ती है
सब कुछ छीना कुछ कर न सका
अब किससे किसकी बात करें

सब छोड़ गए ताने देकर
निष्ठुर मैं सब सहता गया
बर्दाश्त सबकी करता गया
एक दिन सब ठीक हो जायेगा
ये सोच कर बढ़ता गया
न जाने सब कब रूठ गए
मेरी किस बात से टूट गए
मैंने तो न ऐसा चाहा था
सबको अपना ही माना था

हाँ जीवन के आपाधापी में
कुछ भूल हुई कुछ पाप हुआ
कुछ छूट गया कुछ टाल दिया
पर यह कैसा अभिशाप हुआ
कि सब जीत गए मैं हार गया।

होता है अक्सर  होता है
जब रेखाएँ धूमिल होती है
तब नाश मनुज पर छाता है
मेरी तो रेखा थी हीं नही
आते हीं मिटा दिया मैंने
बढ़ते हीं बुझा दिया मैंने
जब माँ ने आंखे मुंदी थी
तब रेखाओ की क्या चाल न थी!
जब पापा ने साथ छोड़ा था
तब रेखाओ की मज़ाल न थी!

रेखाएँ कब के रूठ चुकि
अब सब ऐसे है तो क्या करिये
आँसू किस्मत में है तो क्यू डरिये
चलो फिर से एक कोशिश करे
सबकी सुने सबकी करें।

© शशि कुमार आँसू

Sachin Bansal buys DHFL General Insurance

Flipkart co-founder Sachin Bansal’s bet on the insurance firm is part of his broader ambition in financial services industry.

The deal has been routed through Navi Technologies, formerly BAC Acquisitions which Bansal had founded along with IIT-Delhi batchmate Ankit Agarwal after selling stake in Flipkart in 2018.
Sources said Bansal has bought out the entire stake in the insurer, held by Kapil
Wadhawan-owned WGC. “Navi is actively scouting for opportunities in BFSI space,” a spokesperson for the company said when contacted . “Specifically, it is interested in the intersection of technology and financial services, where we believe technology can be harnessed to improve access and availability of financial services,” the spokesperson said.

DHFL General Insurance has about Rs 400 crore assets under management.
“Bansal wants to get a footing into the banking and financial services sector. There has been a lot of talk about him being keen on obtaining a banking licence and has been looking at opportunities in the asset management space,” a source said. Bansal’s move to step into the insurance sector comes on the back of Navi Technologies acquiring a majority stake in Chaitanya Rural Intermediation Development Services, which runs a microfinance platform. Having picked up more than 90% stake in Chaitanya, he took over as its chief executive last year.