Know All About #PayAsYouDrive Insurance By Shashi Kumar Aansoo

The usage-based motor insurance, popularly known as ‘Pay As You Drive’, allows customers to pay the premium depending on how many kilometers the car has traveled. In the first tranche of sanctions, the Insurance Regulatory and Development Authority of India (Irdai) approved companies such as Bharti Axa General, Go Digit, TATA AIG, ICICI Lombard, etc.

Under this insurance scheme, a customer pre-declares vehicle usage for a period of one year. Accordingly, the insurance premium will be calculated dynamically as per the pre-declared distance in km. The customer can choose from three slabs – 2500 km., 5000 km. and 7500 km – as per his/her usage need.

Where to buy?

Insurers are now offering the usage-based product through their company websites, online insurance aggregators like PolicyBazaar.com, agents and other distribution channels.

If you want to buy the policy online, then you just have to provide the odometer reading, Know Your Customer (KYC) details, and fill up a customer consumer consent form.

Should you buy?

‘Pay As You Drive’ is ideal for the customers who have multiple vehicles and may not use each vehicle as much; therefore, they may not have to pay a large premium amount.

Also, If you are someone who mostly relies on public transport or even use your vehicles rarely due to medical complications, then this will help you cut cost on your vehicle insurance.

Also, another thing to consider is that a “Pay As You Drive” product is comprehensive own damage (OD) plus third party (TP) policy and is being offered on a pilot basis for a year. Insurers are required to sell 10,000 policies in six months to be able to offer this as a regular insurance policy.

आपके पास एक से ज्यादा गाड़ियां हैं या अपनी कार के इस्तेमाल की बजाए सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना बेहतर समझते हैं, ऐसे में आपको अपनी कार की इन्श्योरेन्स प्रीमियम पर ज्यादा नहीं खर्च करना पड़ेगा। आप #PayAsYouDrive जैसे पॉलिसी ले सकते हैं @shashiaansoo

#Insurance #Inspiration #Information # GeneralInsurance #IRDA #MotorInsurance #Car Insurance #Motor insurance #PayAsYouDrive

Disclaimer – Opinions expressed are solely my own or drawn from innumerable centers of lore. It do not express the views or opinions of my employer.

हेल्थ इंश्योरेंस अब जरूरी क्यों है? – All about health insurance

हम जानते हैं की इंडिया मे हेल्थ इनश्योरेंस कोई जबरदस्त एक्साटिंग शानदार खरीदने की चीज नहीं है। कोई भी इसे अपने टॉप विशलिस्ट मे नहीं रखता। जब भी हेल्थ इनश्योरेंस खरीदने की बात होती है सब नायाब इनोवेटिव बहाने ढूंढ लेते हैं… मसलन “बाद में कर लेंगे अभी तो जवान हैं”, “देख लेंगे अभी दूसरा काम है” , “अभी थोड़ा हाथ टाइट है नेक्स्ट टाइम करेंगे ”. यहाँ सब अपने ही एक्सक्यूज से लड़ते रहते हैं.

मैं आपसे बस एक बात कहूँगा “हाँ ये सच है कि हेल्थ इन्सुरंस या कोई भी इन्श्योरेन्स जब आप खरीदते है तो वो कोई खाश खुशी नहीं देती क्योंकि ये कोई भोग विलाश की वस्तु नहीं होती है पर याद रहे संकटकाल में इनश्योरेंस की अनुपस्थिति आपकी सारी खुशियों को बर्बाद कर सकती है।

तो चलिए आज मैं कुछ और इम्पॉर्टन्ट कारण बताता हूँ जिससे शायद आपको हेल्थ इन्श्योरेन्स की प्रासंगिकता समझने में मदद मिल पायें….

1. सबसे पहले कि हम कोई फैंटम नहीं हैं…

यहाँ कोई फैंटम नहीं हैं – Shashi Kumar Aansoo

हम सब जानते हैं कि आज कोई सुरक्षित नहीं है। कोई भी बीमार हो सकता है, किसी को कहीं भी संक्रमण अपनी चपेट मे ले सकता है। एक्सीडेंट की तो पूछिए मत!

सो ये बात तो क्लेयर है की हम कोई फैंटम ना हीं सुपर मैन हैं ना सुपर वुमन ये गलतफहमी से दूर रहें कि “हमे कुछ नहीं होगा” आज की परिस्थिति हमारा सुपर सेंस तो यही कहता कि जल्द हेल्थ इन्श्योरेन्स कवर ले लें ताकि कम प्रीमियम पड़े।

अगर आप 40 साल की उम्र से पहले ये हेल्थ इनश्योरेंस कवर लेते हैं तो आपको बिना शर्त के मैक्सिमम फायदा मिल सकता है।

2. कोरोना जैसे वायरस का अकस्मिक आघात

अगर कोरोना जैसे खतरनाक परिवार का विषाणु अगर बेलगाम हो जाये तो हम परिणाम देख रहें हैं…

फिलहाल आप कोविड-19 की से तो परिचित हो चुके हैं। ऐसे बहुत सारे दुर्दांत वायरस जो हमारी देह की दहलीज लांघ कर हमे रोग ग्रसित करना चाहता है, बस एक असावधानी ही काफी है। 

वैसे दुनिया पहले से H2N2, एशियन फ्लू, रैबीज, इबोला, HIV, Smallpox,रोटा वायरस, सार्स, मर्स और न जाने कितने वायरस की भयावहता झेल रही है ।

ऐसे काल मे एक सम्पूर्ण हेल्थ इनश्योरेंस की सख्त जरुरत है जिससे हम बेफिक्र होकर बेस्ट मेडिकल सुविधा ले सकें बिना खर्चों की चिंता कीये।  

3. फ्री हेल्थ चेक-उप की सुविधा

हेल्थ चेक उप हमे अगाह करते रहता है

हर कोई युवराज सिंह जैसा लकी नहीं होता।  उनकी कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का पता शुरुआती दिनों में सिर्फ इसलिए लग पाया था क्योंकि उसकी नियमित हेल्थ चेक उप होती थी। वह एक खिलाड़ी था।  

हमारे यहाँ तो जब तक कि कोई बड़ी विपदा न आ जाए हम हम अपना हेल्थ चेक-उप टालते रहते हैं। फैन्टम जो ठहरे! हम यहाँ भी जुगाड़ कर लेते हैं ये जानते हुए कि रेगुलर हेल्थ चेक-उप हमें दुर्दांत रोगों की आहट पहले दे देती है पर हम इगनोर करते रहते है। 

हेल्थ इनश्योरेंस आपको फ्री हेल्थ चेक-उप की सुविधा देती है ताकि आप प्रीपेयर्ड रहें।

4 अव्यवस्थित 24/7 की जीवन-शैली

आज हम अपने आप को 24/7 वाले जनरेशन कहलाने में गौरवान्वित महसुस करते है पर ताज़ा सर्वेक्षण साफ-साफ इंगित करता है कि ये भागमभाग की जिंदगी हमें धीमे-धीमे बीमार और बीमार कर रही है। फिजिकल एक्टिविटी हमारी प्राइऑरटी में नीचे जा रही है।  

खान-पान की तो अलग दुविधा है। मिडल क्लास मे तो चाइनीज, कॉन्टिनेंटल और इटैलियन फूड खाना स्टैटस सिंबल बनता जा रहा है।

इंस्टाग्राम पर पोस्ट जो करना हैं #हैविंग_इटैलियन_फूड पेट अपना दुखड़ा भी नहीं कह पा रहा दिन ब दिन हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पड़ती जा रही हैं। नए नए रोग पनप रहे हैं।  आए दिन हमे अस्पताल के चक्कर लगाने पड़ते हैं।

ये सब आकस्मिक खर्चे का जंजाल है, इसके लिए जरूरी है कि हमारे पास स्वास्थ्य बीमा हो जो बुरे वक्त मे काम आ सके।   

5. आस-पास का बढ़ता प्रदूषण

WHO के हाल के रिपोर्ट के अनुसार वायु प्रदूषण हमारे फेफड़े, हृदय और हमारे सारे नाज़ुक अंगों पर अपना खतरनाक कुप्रभाव डाल रही है। जाने अनजाने कितने तरह के प्रदूषण के संपर्क मे हम आते रहते हैं।

भारत मे हर साल 18 लाख लोगों की मौत का जिम्मेदार ये वायु प्रदूषण है। विशेषज्ञ तो यहाँ तक मानते हैं की दिल्ली मे अकेले 30 हजार प्रीमेच्योर मौतों के लिए ये प्रदूषण हीं जिम्मेदार हैं। आकड़े पुराने है पर डरावने हैं।

हम दिन व दिन नये रोगों के प्रति इक्स्पोज़ होते जा रहें हैं ऐसे में प्रीपेयर्ड रहना हमारी मज़बूरी और जरूरत दोनो बन गई है।

6. हृदय व कैंसर रोगियों की बढ़ती तदात

आंकड़ों की मानें तो पिछले 25 बरस में हृदय रोगियों की तादाद में 50 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. एक स्टडी के अनुसार 75 वर्ष की उम्र से पहले कैंसर से मौत का जोखिम (मोर्टेलिटी रेट) पुरुषों में 7.34 फ़ीसदी और महिलाओं में 6.28 फ़ीसदी तक होता है। आज भारत में होने वाली 61% मौतों के लिए असंक्रामक बीमारियाँ (NCD – Non-Communicable Disease), जैसे कैंसर, डायबिटीज और हृदय रोग जिम्मेवार है।

लोगों की निष्क्रिय जीवनशैली और खानपान की खराब आदतों के चलते हृदय रोग से पीड़ित लोगों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। कुछ वर्ष पहले तक, 50 से 60 वर्ष के बीच की उम्र वाले लोगों के लिए हृदय रोग चिंता का विषय हुआ करता था, लेकिन अभी 20 से 40 वर्ष की आयु वर्ग वाले लोगों में भी यह दिखना शुरू होने लगा है।

भारत में निजी अस्पतालों में सामान्य हृदय रोग के उपचार पर 1,50,000 रुपए से 6,00,000 रुपए का खर्च आता है और दवाइयों पर आने वाला मासिक खर्च अलग है।

हृदय रोग के बढ़ते खतरों के मद्देनजर कार्डियक प्लान वाली बीमा पॉलिसी है जरूरी हो गई है।

7. फाइनेंशियल ब्रेक डाउन से सुरक्षा

याद रहे हॉस्पिटल किसी तरह का मोल भाव या नेगोशिएशन नहीं करती है। जिस तरह से हेल्थ सर्विस में सुधार आ रहा है सुविधाएं भी बहुत महंगी होती जा रही है। हम सबने अपने आसपास खेत-जेवर बिकते देखे हैं। ख़ुशहाल परिवार को  अचानक आये मेडिकल विपदाओं के कारण पैसे के लिए बिलखते देखे हैं।
हेल्थ इन्सुरंस उन्ही अप्रत्याशित खर्चों का ख्याल रखती है जो अचानक अस्पताल में भर्ती होने से उत्पन्न होता है। फाइनेंसियल एक्सपर्ट की एक हीं सलाह होती है की आप आपने सालाना आय का 2% हेल्थ इनश्योरेंस के लिए व्यय करें।  

इंश्योरेंस कंपनियों का हर बड़े-छोटे हॉस्पिटलों से टाई-अप होता है, अगर आपके पास हेल्थ इंश्योरेंस है तो आप अपना उपचार कहीं भी करा सकते है वो भी कैशलेस सुविधा के साथ। आपको इलाज के लिए पैसों की चिंता करने की जरूरत नहीं होती। आपके हॉस्पिटल बिल के लिए नेगोशिएशन करने की जरूरत नहीं होती ये काम आपकी इन्श्योरेन्स कंपनी करती है.  आप बेफिक्र होकर अपना इलाज करा सकते हैं।


हेल्थ इंश्योरेंस में मरीज को हॉस्पिटल लाने ले जाने में एंबुलेंस का जो  खर्च भी कवर होता है। 

हाँ इन सब के साथ हेल्थ इनश्योरेंस के लिए जो प्रीमियम का भुगतान किया जाता है, उस पर आयकर भुगतान अधिनियम की धारा 80डी के तहत टैक्स में छूट मिलती है।

त्रुटियों के लिए अग्रीम माफी –
इसमें बहुत सारी त्रुटियां हो सकती है पर मैंने अपनी कपैसिटी मे ईमानदार कोशिश की है और आशा करता हूं कि आप अपने कमेंट से मुझे और सुझाव देंगे। आप से आग्रह है की इसे समझे और इस बात से अपने आसपास के लोगों को अवेयर करें। मेरी यह कोशिश है कि समाज में इनश्योरेंस के बारे में अवरेनेस बढ़े इसलिए मैं बोलचाल की भाषा उपयोग करता हूँ . मैं कोई लल्लनटॉप नहीं हूँ और न इनश्योरेंस का ज्ञाता। बस जितना जानता हूँ वो आप तक बढ़ा दिया। अच्छा लगे तो आप दुसरो को बढ़ा दे बस यही मेरी चाहत है. मैं चाहता हूँ की इस लॉक डाउन में हम और स्टीरिओ टाइप के ज्ञान से थोड़े आगे बढ़े कुछ नया सीखे कुछ नया जाने

धन्यवाद।

#Disclaimer – Opinions expressed are solely my own or drawn from innumerable centers of culture & lore. It do not express the views or opinions of my employer.

मोटर इंश्योरेंस के पक्ष : What Are Parties In General Insurance – Shashi Kumar Aansoo

मोटर इंश्योरेंस के संबंध में तीन पक्ष (Parties) होते हैं —

A. First Party (प्रथम पक्ष):
वह पक्ष (व्यक्ति या संस्था) जो कि जो बीमा खरीदता है वह First Party (प्रथम पक्ष) होता है। बीमा के संबंध में बीमा ग्राहक को प्रथम पक्ष माना गया है।

B. Second Party (द्वितीय पक्ष):
वह पक्ष, जो कि बीमा पॉलिसी बेचता है वह Second Party (द्वितीय पक्ष) होती है। बीमा के संबंध में बीमा कंपनी को द्वितीय पक्ष माना गया है।

C. Third Party (तृतीय पक्ष):
बीमा ग्राहक और बीमा कंपनी के अलावा कोई अन्य व्यक्ति या संपत्ति जो कभी भी किसी वाहन दुर्घटना के चपेट में आ सकता है उसे इन्श्योरेन्स के संबंध में थर्ड पार्टी कहा जाता है अर्थात Third Party (तृतीय पक्ष) वह है जिसे कभी आपके वाहन की टक्कर से नुकसान पहुंच

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस ऐसी बीमा पॉलिसी होती है, जिसका फायदा न तो बीमा करवाने वाले कस्टमर (प्रथम पक्ष = First Party) को होता है और न ही बीमा करने वाली कंपनी (द्वितीय पक्ष = Second Party) को होता है बल्कि इस बीमा का फायदा, अलग किसी अन्य क्षतिग्रस्त होने वाले व्यक्ति Third Party या सम्पत्ति को होता है। इसमे उस अन्य व्यक्ति या संपत्ति को हर्जाना मिलेगा, जिसे आपके वाहन से नुकसान पहुंचा है। इसमें आपको या आपके वाहन को हुए नुकसान का कोई क्लेम नहीं मिलेगा।

हेल्थ और लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी से ऐसे बचाएं टैक्स

मौजूदा वित्त वर्ष के लिए अगर आपने अब तक टैक्स सेवर नहीं खरीदे हैं तो इन इंश्योरेंस प्रॉडक्ट्स पर विचार करें। अगले वित्त वर्ष से अगर आप नई टैक्‍स व्‍यवस्‍था चुनते हैं तो टैक्स बचाने को लेकर इंश्‍योरेंस की प्रासंगिकता खत्म हो सकती है।

आप भी उन लोगों में हैं जो अपनी टैक्‍स देनदारी घटाने के लिए इंश्‍योरेंस पॉलिसी खरीदते हैं? मौजूदा वित्त वर्ष के लिए अगर आपने अब तक टैक्स सेवर नहीं खरीदे हैं तो इन इंश्योरेंस प्रॉडक्ट्स पर विचार करें। अगले वित्त वर्ष से अगर आप नई टैक्‍स व्‍यवस्‍था चुनते हैं तो टैक्स बचाने को लेकर इंश्‍योरेंस की प्रासंगिकता खत्म हो सकती है, क्योंकि नी व्यवस्था में आपको डिडक्‍शन और एग्‍जेम्‍पशन नहीं मिलेंगे।

बहरहाल जानकार कहते हैं कि इंश्‍योरेंस केवल टैक्‍स बचाने के मकसद से नहीं खरीदना चाहिए। मौजूदा टैक्‍स सिस्टम में लाइफ इंश्योरेंस और मेडिक्‍लेम खरीदने पर कई तरह की टैक्‍स छूट मिलती है। इनकम टैक्स कानून, 1961 में कई प्रावधान हैं जिनके तहत आप टैक्‍स डिडक्शन क्‍लेम कर सकते हैं। आइए जानें इनके बारे में।

सेक्‍शन 80C
मौजूदा टैक्स सिस्टम में आप एन्डाउमेंट, होल लाइफ, मनी बैक, टर्म इंश्‍योरेंस और यूलिप (यूनिट लिंक्‍ड इंश्‍योरेंस पॉलिसी) जैसी इंश्‍योरेंस पॉलिसी के प्रीमियम के भुगतान पर सेक्‍शन 80सी के तहत आप डिडक्‍शन क्‍लेम कर सकते हैं। हालांकि, इस सेक्‍शन के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर ही टैक्‍स छूट मिलती है।

सेक्‍शन 80CCC
सेक्‍शन 80सीसीसी के तहत लाइफ इंश्योरेंस कंपनी के ऐन्‍युइटी प्‍लान के लिए पे की जाने वाली रकम पर छूट मिलती है। इस सेक्शन के तहत टैक्‍स डिडक्‍शन की सीमा 1.5 लाख रुपये है। यह सेक्‍शन 80सी और 80सीसीडी के तहत छूट में शामिल है। यानी इन तीनों सेक्‍शन को मिलाकर इनके तहत 1.5 लाख रुपये की टैक्स छूट का दावा किया जा सकता है।

पेंशन प्‍लान्स के अमूमन दो हिस्‍से होते हैं। ऐक्‍युमुलेशन फेज और विदड्रॉल या पेआउट फेज। पॉलिसी मैच्‍योरिटी डेट तक आप जो प्रीमियम देते हैं, उसमें से कुल रकम का 60% आप एकमुश्‍त ले सकते हैं। बाकी की रकम नियमित पेंशन के तौर पर आपको मिलती है।

आप सेक्‍शन 80CCC के तहत डिडक्‍शन क्‍लेम कर सकते हैं। डिडक्‍शन की सीमा 1.5 लाख रुपये तक है। वहीं विदड्रॉल फेज में एकमुश्‍त राशि का एक तिहाई टैक्‍स-फ्री होता है। बची हुई रकम को या तो एकमुश्‍त या रेगुलर पेंशन के तौर पर दिया जाता है। इसे उस साल की इनकम माना जाता है. इस पर करदाता को टैक्‍स देना पड़ता है.

सेक्‍शन 10 (10D )
इनकम टैक्स के इस सेक्‍शन के तहत लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी की मैच्‍योरिटी या इसे सरेंडर करने या इंश्योर्ड व्‍यक्ति की मौत हो जाने पर मिलने वाली रकम (सम अश्‍योर्ड) और बोनस पूरी तरह टैक्‍स फ्री हैं। यह एग्‍जेम्‍पशन सेक्‍शन 10 (10D) के तहत मिलता है।

हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पर टैक्‍स में फायदे
हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी के मामले में आप सेक्‍शन 80D के तहत टैक्‍स छूट ले सकते हैं।

सेक्शन 80D
1- इस सेक्‍शन में लाइफ पार्टनर, बच्चों और अपने लिए प्रिवेंटिव हेल्थकेयर चेकअप की कॉस्ट के साथ हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम के लिए आप 25,000 रुपये तक डिडक्शन क्लेम कर सकते हैं।
2-अगर माता-पिता के लिए हेल्थ इंश्योरेंस खरीदते हैं तो 50,000 रुपये तक एक्स्ट्रा डिडक्शन पा सकते हैं बशर्ते माता-पिता सीनियर सिटिजन हों।

अगर टैक्सपेयर और उसके माता-पिता दोनों की उम्र 60 साल से ज्‍यादा है तो मेडिक्‍लेम पॉलिसी पर 1 लाख रुपये तक डिडक्‍शन क्लेम किया जा सकता है।

Premium Rates for Motor Insurance Cover for FY 2019-20

Premium Rates for Motor Insurance Cover for FY 2019-20 (WEF. 16/06/2019)

Disclaimer: Its Ready Reckoner Indian Motor tariff Rates as per IRDIANL/NL/NTFN/MOTP/91/06/2018

For Details Refer IRDA Website –
https://www.irdai.gov.in/ADMINCMS/cms/frmGeneral_Layout.aspx?page=PageNo3827&flag=1

or Call Toll Free No. 155255 (or) 1800 4254 732

Common Words and Phrases Even Smart People Get Wrong

I am very passionate about learning new words In English and in other language… Sometime we use wrongly Opted Words and found ourselves uncomfortable when it caught by sone literate Person… So let’s check How confident are you in your own vocabulary? Are you certain that every word you use is used correctly? If so, you’re highly unusual. Most people get some words wrong at least some of the time, and some words are wrong more often than they’re used correctly.

To make sure this doesn’t happen to you, here’s a list of 16 common words and phrases to be careful with. They may not mean what you think they do:

1. Adverse

Adverse means bad and usually refers to existing conditions. “The new tax laws were having an adverse effect on business,” or “We drove to the seaside despite adverse weather conditions.” What it doesn’t mean is objection-that’s averse. As in, “I would not be averse to you joining me for dinner.” Two different words that many people mix up.

2. Comprise

Comprise means to include or to be made up of. For instance, a large collection comprising 50 portraits and 20 landscapes. What it doesn’t mean is composed. So, “our work force is comprised of a diverse group of people of all races and ages,” is wrong. Use “compose” or “made up” instead. I frankly can’t see any good use for this word since all its meanings have synonyms that are more easily understood. I avoid it.

3. Diffuse

Diffuse means to dilute or spread out. For instance, if you pour a cup of milk into the ocean, it will diffuse. You can render something harmful less so by diffusing it into a large quantity of something harmless, such as a tablespoon of arsenic diluted in ten gallons of water. That leads some people to wrongly use diffuse to mean “render harmless.”

What they really want is defuse, which sounds somewhat similar. That literally means to deactivate or remove the fuse from an explosive device. But it can also be used metaphorically. For instance, if two people are about to get into a heated argument, you might be able to defuse-not diffuse-tensions by taking them out for ice cream.

4. Effect

Effect is often used wrongly instead of affect. To affect something is to change it-to have an effect on it. Effect as a verb means to make something happen, as in “he effected a cure for his son’s sore throat by feeding him ice cream.” It doesn’t mean to change something.

5. Eke out

The verb to eke is used incorrectly more often that it’s used correctly. Here’s a perfect example of misuse from a recent headline: “Giants eke out a weird, wild win in St. Louis.” To eke out is often used to mean “squeeze out” or “just barely manage.” What it really means, though, is to supplement or stretch out, usually one’s income.

A common usage, and one that’s led to a lot of misunderstanding, is something like this, “He eked out a small living by selling magazine subscriptions.” What that means is, he wasn’t paid very well at his day job, so he picked up extra money selling magazines on the side.

6. Flout

If you’ve got it, flout it, right? Not so much. To flout is to shamelessly break a rule or restriction, such as running a stop sign when there’s a police car right behind you. (I did this once. I don’t recommend it.) It doesn’t mean to show off or boast. If you’ve got it, flaunt it.

7. Forego

This is one I get wrong myself. Did you think it means to give something up or go without something? Wrong-that’s forgo, with no e. To forego means to go before something.

This word is so commonly misused that some lenient dictionaries define forego as “a variant spelling of forgo.” Even so, if you mean forgo, you might as well use the more standard spelling and avoid confusion, not to mention disapprobation.

8. Free reign

This is another phrase that seems to be used incorrectly at least as often as it’s used right. The correct phrase is “free rein,” as in what happens when you’re riding and you drop the reins to let the horse go wherever it wants. Reign is what kings do, and that leads to some confusion because if you write, “he has free rein over our budget,” reign, in the sense of being in charge, might seem right. It isn’t.

9. Hopefully

Hopefully is an adverb meaning “in a hopeful manner.” Correct: ‘”It looks like rain today,” he said hopefully.” (I’m on the West Coast where rain is to be hoped for.) Incorrect: “Hopefully, it will rain today.” Raindrops don’t have emotions so they’re unlikely to feel hopeful as they fall from the sky.

10. Ironic

The meaning of this term is the subject of so much debate even language experts disagree about how to use it right. Much of the disagreement centers around the Alanis Morissette song “Ironic”-many mavens say that none of the situations described in the song actually constitute irony.

Though dictionaries differ, defining this word seems to come down to three things. First, a statement made when what is said isn’t what is meant. For instance, “Isn’t it a nice day to go for a walk?” if it’s pouring outside. The second, having to do with plays or movies, is when someone says something but the audience knows better. For instance, when the young newlyweds say, “I’m so glad we’re alone at last,” because they can’t see the crowd of zombies gathering right outside the door. A third meaning, at least according to some dictionaries, is the opposite of what would be expected or appropriate, such as a stop sign with the words “…defacing stop signs,” added under the word “Stop.”

The word definitely doesn’t mean “oddly coincidental,” but it’s often used that way. So “Ironically, he finally found his long-lost love the day before his wedding to another woman,” is all wrong.

11. Methodology

Methodology is the actual study of method. So if you have a group of scientists running an experiment, and a second group of scientists is interviewing them about how they’re handling that experiment-that’s methodology. The procedure by which the first group of scientists is actually doing their experiments is method, not methodology.

12. Myself

This is another one I’ve often gotten wrong. Myself is only properly used when the subject of a sentence is “I.” For instance, “I myself have seen this happen with my own eyes.” Don’t use myself in any other context. “He brought drinks for my sister, my wife, and myself,” is wrong. Use “me” instead.

13. Nauseous

This is one most people get wrong. If you’re feeling sick to your stomach, you’re nauseated, not nauseous. If you’re nauseous, that means you’re making the people around you feel sick to their stomachs.

14. Peak your interest

I don’t know how many PR pitches I’ve received saying they want to peak my interest in something. Although they’re hoping to bring my interest to a peak, the correct usage is pique your interest. Pique means to arouse or excite. As a noun, it means being angry or offended, which may be part of the confusion.

15. Period of time

I’ve said or written this many times myself, but I’ve recently seen the light. Period (when not referring to punctuation) actually means a certain amount of time. So “period of time” is badly redundant. Go ahead and use period, just don’t put “of time” after it.

16. Poured over

If you’re carefully examining something, then you’re poring over it, not pouring. If you’re “pouring over” something, it had better be liquor over ice, or hot fudge sauce over ice cream sauce.

How many of these words have you been using correctly? If it’s all of them, give yourself a pat on the back. Either way, feel free to tell me your own most annoying word misuses in the comments.

image

Posted from WordPress for Android By Shashi Kumar (Aansoo)

What is Insurance Underwriting? (General Insurance) – Shashi Kumar Aansoo

What is Insurance Underwriting?

Let’s take a look at the concept of underwriting.

“Underwriting is a core insurance function. It is a methodological approach to ensure that the insurance business is conducted on sound lines and that risks are evaluated for loss potential on both frequency and severity over a period of time.”

Underwriting is the process of:

  • Determining the level of risk presented by a proposer
  • Deciding whether to accept the proposal
  • Deciding the terms and price of the accepted proposal

Each underwriting decision involves balancing the insurer’s desire to earn premium often in competitive conditions with margins required to pay claims and expenses and also to ensure compliance with regulatory requirements. Underwriting is essential in all forms of insurance. For example, an automobile insurer will charge higher rates to young drivers, old models of vehicles, or may refuse coverage to drivers with a history of accidents. The underwriter may offer discounts for vehicles fitted with anti-theft devices. Fire insurers may inspect properties, offer reduced premiums for safety features such as sprinkler systems, and so on.

Understanding Risk Sharing

Understanding the concept of risk sharing or pooling will make it easier for you to understand the role of underwriting and risk classification in insurance.

All risks are not equal. For example, in the field of property and casualty insurance, wooden structures are at a greater risk of burning than stone structures. Therefore, a higher premium is required to insure a wooden structure. The same concept applies to life insurance. An individual with a serious illness such as cancer or diabetes is at a greater risk of premature death than an individual without the illness.

Since all risks are not equal, it would be inequitable to make all insured contribute the same amount. Thus, underwriting attempts to classify risks based upon their characteristics so that each insured in a specific class pays a premium in proportion to the risk involved.

The issue of fairness to the other participants is at the core of this risk classification (underwriting) process. When viewed from a perspective of fairness, proper risk classification becomes a central obligation of insurers to the policyholders who participate in their risk pools. This applies for all risks – life, assets or earnings.