इश्क़ है..

हुस्न के क़सीदे तो गड़ती रहेगी, महफिले..! झुरिया भी प्यारी लगे, तो मान लेना इश्क है..!